गुरुवार, 4 जून 2009

नफ़रत करने की तो वो सारी हदें तोड़ दिए


नफ़रत करने की तो वो सारी हदें तोड़ दिए।
अपना रुख मोड़ के मेरा भी रुख मोड़ दिए।


किसी का भी बुरा चाहना ठीक नहीं है इतना
अपनों की खातिर अपनी ही आँख फोड़ लिए।


ऐसे लोग जहाँ कहीं पर भी मुझे समझ आए
बड़े प्यार से मैंने उनसे अपने हाथ जोड़ लिए।


सभी अपने मन के मिलें ऐसा हो नहीं सकता
मन के तो अपनाए बे-मन के मैंने छोड़ दिए।



7 टिप्‍पणियां:

  1. "मन के तो अपनाए बे-मन के मैंने छोड़ दिए।"
    भाव भरी कविता के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. man ke to apnaya be-man ke chod diye
    bahut badhiya likha .........bas beman ke bhi chodna itna aasan hota nhi hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. सभी अपने मन के मिलें ऐसा हो नहीं सकता
    मन के तो अपनाए बे-मन के मैंने छोड़ दिए।

    वाह...सही कहा प्रेम साहेब...बहुत अच्छी रचना...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी अपने मन के मिलें ऐसा हो नहीं सकता
    मन के तो अपनाए बे-मन के मैंने छोड़ दिए

    सच लिखा है..जीवन की हकीकत

    उत्तर देंहटाएं
  5. गर जल्दी जाना हो तुमको यह दुनिया छोड़कर
    सुबह-शाम जब चाहे सिगरट का कस लीजिये।

    बहुत सह्जता सरलता से चेतावनी दे दी प्रेम भाई बहुत खूब सूरत अन्दाजे बयां है आपका
    श्याम सखा

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut sundar boss.

    is kavita ko padhkar dil ek alag se ahsaas me chala gaya .. behatreen lekhan . yun hi likhte rahe ...

    badhai ...

    dhanywad.
    vijay

    pls read my new poem :
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/05/blog-post_18.html

    उत्तर देंहटाएं