मंगलवार, 23 जून 2009

परदेश से जब आयेंगे मेरे साजना


परदेश से जब आयेंगे मेरे साजना
रूठ जाऊंगी उनसे करूँगी बात ना
जो भी कहो ,कहूँगी , दूर से कहो
रखने दूँगी उन्हें वदन पे हाथ ना।

पूछूँगी क्यों इतना सताया मुझे
काहे पागल सजना बनाया मुझे
तुमने तो मुझको भुला ही दिया
काहे तरसाके इतना रुलाया मुझे
ये आदतें तुम्हारी आयी रासना।

तुम क्या जानो मैं कैसे रही हूँ
ली न ख़बर जीवित कि मरी हूँ
तुम हो बड़े बेरहम दिल पिया
तुम्हारी बला से,मैं जैसे भी रही हूँ
लगता आयी तुम्हें मेरी याद ना।


12 टिप्‍पणियां:

  1. bhai yaad aati toh hogi unko magar ve bataate na honge

    achhi rachna !
    badhaai !

    उत्तर देंहटाएं
  2. satana to mahabuba ka hak banataa hai our aap mana dena ........sundar

    उत्तर देंहटाएं
  3. रूठने मनाने के अद्भुत भावः समेटे हुए है आपकी रचना...अति सुन्दर...वाह...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह क्या अंदाज़ है रूठे सजना को मनाने का............. लाजवाब लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर गीत है प्रेम भाई।
    बरसात में बहुत मज़ा देगा।
    दुआ करो कि बारिश जल्दी से
    आ जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने इतने सुन्दर ढंग से गीत लिखी है कि पढ़कर भी सुनने का सा भान हुआ....बहुत बहुत सुन्दर वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. Jab aise,aise diggaj, tippanee kar gaye, hame aur likhnaa naa aana!
    Manzoor, hai,un sabhheka kahanaa...!

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://lalitlekh.blogspot.com

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं