रविवार, 17 मई 2009

उसका आ के वापस जाना अच्छा नहीं लगता


उसका आ के वापस जाना अच्छा नहीं लगता।
उसके बिना मौसम सुहाना अच्छा नहीं लगता।


जुदाई का दर्द भला क्या समझेगा यह जमाना
ऐसे में किसी का समझाना अच्छा नहीं लगता।


जो होना था वही हुआ और कर भी क्या सकते
चुप चाप बैठ कर पछताना अच्छा नहीं लगता।


लाख कोशिश की दिल को बहलाने की मैंने पर
किसी तरह भी कोई बहाना अच्छा नहीं लगता।

9 टिप्‍पणियां:

  1. पहली पंक्ति पढ़कर ऐसा लग रहा है कि
    "उसका आना" और "आकर जाना",
    दोनों ही अच्छे नहीं लगते!

    बुरा न मानते हों,
    तो एक बात और कहूँ ... ... .

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐसे ही होता है ..पर क्या करें अब उन्हें याद करना भी अच्छा नहीं लगता...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर भाव

    वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना और भाव!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. रावेंद्रकुमार रवि जी ,
    सर्व प्रथम आपका बहुत बहुत धन्यवाद.
    मगर मुझे ऐसा क्यों लगता कि टिप्पणी
    आपने अधूरी छोड़ी है.मेरा
    मतलब बस इतना है कि किसी का
    आना और आकर का मतलब
    आने के बाद "जाना" अच्छा नहीं लगता.

    उत्तर देंहटाएं
  6. "उसके बिना मौसम सुहाना अच्छा नहीं लगता।"
    बहुत सुन्दर रचना।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. रवि जी को मेल करके पूछो-
    कुछ कहना चाहते है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. लाख कोशिश की दिल को बहलाने की मैंने पर
    किसी तरह भी कोई बहाना अच्छा नहीं लगता। boht hi dil ko chhune wale ahsaas hai...

    उत्तर देंहटाएं