मंगलवार, 5 मई 2009

तेरा गरूर तुझको मिटा देगा


तेरा गरूर तुझको मिटा देगा।
जो नहीं देखना वो दिखा देगा।

हैवान की जगह इंसान बन
चहुँ ओर खुशी का सिला देगा।

दूसरों से सबक ले बदला न ले
सबक शान्ति,बदला सजा देगा।

तू इन्सान ही बन खुदा न बन
खुदा बनेगा तो वो खुदा देगा।

उसकी मार तू देख नहीं सकता
उस से डर नहीं तो वो डरा देगा।

तू कुछ भी नहीं है उसके आगे
पहले झुक नहीं तो झुका देगा।

अपने प्रभु की पूजा किया कर
वो तुझको सब कुछ दिला देगा।

11 टिप्‍पणियां:

  1. तू कुछ भी नहीं है उसके आगे
    पहले झुक नहीं तो झुका देगा।


    -एक अच्छी रचना!! बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना है .. बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. तू इन्सान ही बन खुदा न बन
    खुदा बनेगा तो वो खुदा देगा।

    बहुत खूब प्रेम भाई। किसी ने कहा है कि-

    मशवरा है बड़े खुलूस के साथ,
    दूसर के दुखों में काम आओ।
    तुम फरिश्ता तो बन नहीं सकते,
    कम से कम आदमी तो बन जाओ।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके कमेंट्स अच्छे लगे . धन्यबाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. उसकी मार तू देख नहीं सकता
    उस से डर नहीं तो वो डरा देगा।
    सच्ची बात कही है अपनी ग़ज़ल में....बहुत खूब जनाब.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  6. हैवान की जगह इंसान बन
    चहुँ ओर खुशी का सिला देगा।

    वाह, बहुत खूब.

    ऐसे कुछ पवित्र भाव मेरे भी ब्लॉग पर हैं.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रिय बन्धु
    जय हिंद
    साहित्य हिन्दुस्तानी पर पधारने के लिए धन्यवाद और अपनी आमद दर्ज कराने का शुक्रिया
    अगर आप अपने अन्नदाता किसानों और धरती माँ का कर्ज उतारना चाहते हैं तो कृपया मेरासमस्त पर पधारिये और जानकारियों का खुद भी लाभ उठाएं तथा किसानों एवं रोगियों को भी लाभान्वित करें

    उत्तर देंहटाएं