मंगलवार, 26 मई 2009

तन के रोगी मन के रोगी देखे गए



तन के रोगी मन के रोगी देखे गए।
प्यार में तड़पते हुए जोगी देखे गए।


ओखली के अदंर पर चोट के बाहर
बड़े चतुर जहाँ में भोगी देखे गए।


मतलब में तो मीठे पर वैसे कडुए
जादा ऐसे जहाँ में ढोंगी देखे गए।


आता जाता कुछ भी नहीं फ़िर भी
बकते हुए बहुत से पोंगी देखे गए।

11 टिप्‍पणियां:

  1. रोगी, भोगी, जोगी और ढोंगी के साथ
    बहुत मज़ेदार तुक़ मिलाया है आपने - पोंगी!
    मज़ा आ गया!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह एक साथ इतनो पर वार......... बहुत खूब........

    उत्तर देंहटाएं
  3. prem ji, rachna prashansniya hai.

    aap mere blog par aaye, comment kiya hriday se aabhari hun,bhavishya men aate rahen aapke swagat hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी का प्यार ही मेरी प्रेरणा है.
    धन्यबाद!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सीधी बात,सच्ची बात,
    मन को भाई ये सौगात।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम उसे अपने दिल में रहे ढूँढते ,
    वो कहीं प्रेम संग होगी, देखे गये ???

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सटीक बात कही जी आपने. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जीवन की सच्चाई को आपने गजल में बखूबी पिरो दिया है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं