रविवार, 10 मई 2009

सबसे प्यारी सबसे न्यारी माँ होती है

माँ



सबसे प्यारी सबसे न्यारी माँ होती है।
अपने जिगर के टुकडों की वो जाँ होती है।

सदा अपने बच्चों का रखती है वो ध्यान
जीती है वो
देख के उनकी मधुर मुस्कान
जहाँ भी होते बच्चे उसके वो वहाँ होती है।

सबसे प्यारी सबसे न्यारी माँ होती है।

अपने जिगर के टुकडों की वो जाँ होती है।
बच्चों की खुशियों में खुशी हो हो करके
उनके दुःख में अक्सर दुखी हो हो करके

अपने बच्चों के संग संग
वो रवाँ होती है।


सबसे प्यारी सबसे न्यारी माँ होती है।
अपने जिगर के टुकडों की वो जाँ होती है।


बच्चों की मनोभावना

छोटू बोला लम्बू से
तू क्यों लंबा हो गया
बिजली का खम्बा हो गया
लम्बू बोला छोटू से
खूब खाना खा प्यारे
मुझसा लंबा हो जा रे
कभी नही जो रूठते
खाना खूब खाते हैं
मम्मी उनको प्यार करती
और पापा खूब घुमाते हैं


6 टिप्‍पणियां:

  1. 'माँ 'पर लिखी यह सुन्दर कविता भावपूर्ण है प्रेम जी.

    और बाल कविता भी मजेदार है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत मजेदार!!

    मातृ दिवस पर समस्त मातृ-शक्तियों को नमन एवं हार्दिक शुभकामनाऐं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ के साथ ही बच्चों की भावनाएं ...................

    सुन्दर , भावनात्मक समावेश.

    दोनों ही रचनायें सुन्दर और लाजवाब.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  4. मॉं के बारे में बस इतना ही कहना चाहूंगा कि मॉं आखिर मॉं होती है। बेहतरीन रचना। बधाई।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं