शुक्रवार, 17 अप्रैल 2009

वो अपने शहर में आबाद है उसे क्या



वो अपने शहर में आबाद है उसे क्या।
उसकी वजह कोई बरवाद है उसे क्या।



जब भी बोलता है तो बोलता ही रहता
कौन हुआ उस से नाशाद है उसे क्या।


समझाओ तो समझने को तैयार नहीं
समझे ख़ुदको वो उस्ताद है उसे क्या।

जो भी उसको भाता बस वही करता
अपनी नज़र में आजाद है उसे क्या।

बैठ गया वो कुर्सी पर करने को फैसला
भले ही करे कोई फरियाद है उसे क्या।



4 टिप्‍पणियां: