मंगलवार, 28 अप्रैल 2009

अपने दिल में बिठा लिया है मेरे यार ने मुझे



अपने दिल में बिठा लिया है मेरे यार ने मुझे।
जिन्दगी जीना सिखा दिया है मेरे यार ने मुझे।


मैं तो होशो हवास खो के जी रहा था जिन्दगी
जिन्दगी से ही मिला दिया है मेरे यार ने मुझे।


मोहब्बत से ही महकती है ये जिन्दगी जहाँ में
मोहब्बत का सिला दिया है मेरे यार ने मुझे।


अब क्यों करूं परवाह जमाने भर की बतलाओ
भई फूल सा खिला दिया है मेरे यार ने मुझे।

7 टिप्‍पणियां:

  1. मैं तो होशो हवास खो के जी रहा था जिन्दगी
    जिन्दगी से ही मिला दिया है मेरे यार ने मुझे।

    --बेहतरीन, प्रेम भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उम्दा गज़ल!!बधाई स्वीकारें प्रेम जी।

    मोहब्बत से ही महकती है ये जिन्दगी जहाँ में
    मोहब्बत का सिला दिया है मेरे यार ने मुझे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप सभी का धन्यबाद जो मेरी रचना को सराहा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम जी,
    लगता है मोहब्बत में पीएचडी कर रहे हो.
    अच्छा लगा मन मोह लिया आपने है

    मोहब्बत से ही महकती है ये जिन्दगी जहाँ में
    मोहब्बत का सिला दिया है मेरे यार ने मुझे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं