रविवार, 15 मार्च 2009

आज कल तू मुझसे बोलता क्यो नहीं


आज कल तू मुझसे बोलता क्यों नहीं।
राजे दिलको मुझसे खोलता क्यों नहीं।

मेरे बारे में आख़िर तू सोचता क्यों नहीं।
पास आके जीवन रस घोलता क्यों नहीं।

परेशां क्यों हो उलझ कर अपने आप में
दिन रात तेरे बारे में सोचता क्यों नहीं। 


गुस्सा थूक कर आ जाओ करीब दिलवर
दिल मिलाके साथ मेरे डोलता क्यों नहीं।

6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह् वाह प्रेम साहब क्या कहना !

    उत्तर देंहटाएं
  2. bade hi sadharan lafzon mein aapne bahut badi baat keh di... badhai ho aapko

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुमने मन से बातें की है,
    मन ही तो दिलवर है,

    मन में बस जाओ अपने,
    ये सुन्दर एक नगर है।

    उत्तर देंहटाएं